Friday, May 14, 2010

हिंदी भारत की आत्मा है


भारतीय समाज में अंग्रेजी भाषा और हिन्दी भाषा को लेकर कुछ तथा कथित बुद्धिजीवियों द्वारा भम्र की स्थिति उत्पन्न की जा रही है। सच तो यह है कि हिन्दी भारत की आत्मा, श्रद्धा, आस्था, निष्ठा, संस्कृति और सभ्यता से जुड़ी हुई है।

कुछ दिनों पूर्व मित्र पंकज झा जी ने कहा की हिंदी भाषा को लेकर मै चिन्त्तित हूँ की भारत की माटीके लालो में यह निराशा क्यों घर कर गई है ,तो मै उनको समर्पित कर रहा हूँ.
बोली की दृष्टि से संसार की सबसे दूसरी बड़ी बोली हिन्दी हैं। पहली बड़ी बोली मंदारीन है जिसका प्रभाव दक्षिण चीन के ही इलाके में सीमित है चूंकि उनका जनघनत्व और जनबल बहुत है। इस नाते वह संसार की सबसे अधिक लोगों द्वारा बोली जाती है पर आचंलिक ही है। जबकि हिन्दी का विस्तार भारत के अलावा लगभग 40 प्रतिशत भू-भाग पर फैला हुआ है लेकिन किसी भाषा की सबलता केवल बोलने वाले पर निर्भर नहीं होती वरन उस भाषा में जनोपयोगी और विकास के काम कितने होते है इस पर निर्भर होता है। उसमें विज्ञान तकनीकि और श्रेष्ठतम् आदर्शवादी साहित्य की रचना कितनी होती है। साथ ही तीसरा और सर्वाधिक महत्वपूर्ण तथ्य यह है कि उस भाषा के बोलने वाले लोगों का आत्मबल कितना महान है। लेकिन दुर्भाग्य है इस भारत का कि प्रो। एम.एम. जोशी के शोध ग्रन्थ के बाद भौतिक विज्ञान में एक भी दरजेदार शोधग्रंथ हिन्दी में नहीं प्रकाशित हुआ। जबकि हास्यास्पद बाद तो यह है कि अब संस्कृत के शोधग्रंथ भी देश के सैकड़ों विश्वविद्यालय में अंग्रेजी में प्रस्तुत हो रहे है।

भारत में पढ़े लिखे समाज में हिन्दी बोलना दोयम दर्जे की बात हो गयी है और तो और सरकार का राजभाषा विभाग भी हिन्दी को अनुवाद की भाषा मानता है। परन्तु अब तो संवैधानिक न्यायायिक संस्थायें (उच्च न्यायालय और उच्चतम न्याय) भी यह कह रहे है कि हिन्दी भारत की राष्ट्र भाषा नहीं है जबकि संसार के अनेक देश जिनके पास लीप के नाम पर केवल चित्रातक विधिया है वो भी विश्व में बडे शान से खडे है जैसे जापानी, चीनी, कोरियन, मंगोलिन इत्यादि, तीसरी दुनिया में छोटे-छोटे देश भी अपनी मूल भाषा से विकासशील देशो में प्रथम पक्ति में खड़े है इन देशों में वस्निया, आस्ट्रीया, वूलगारिया, डेनमार्क, पूर्तगाल, जर्मनी, ग्रीक, इटली, नार्वे, स्पेन, वेलजियम, क्रोएशिया, फिनलैण्ड फ्रांस, हंग्री, निदरलैण्ड, पोलौण्ड और स्वीडन इत्यादि प्रमुख है।

रही बात भारत में अंग्रेजी द्वारा हिन्दी को विस्थापित करने की तो यह केवल दिवास्वपन है क्योंकि भारतीय फिल्मों और कला ने हिन्दी को ग्लोबल बना दिया है और भारत दुनिया में सबसे बड़ा उपभोक्ता बाजार होने के नाते भी विश्व वाणिज्य की सभी संस्थाएं हिन्दी के प्रयोग को अपरिहार्य मान रही है। हमें केवल इतना ही करना है कि हम अपना आत्मविश्वास जगाये और अपने भारत पर अभिमान रखे। हम संसार में श्रेष्ठतम् भाषा विज्ञान बोली और परम्पराओं वाले है। केवल हीन भाव के कारण हम अपने को दोयम दर्जे का समझ रहे है वरना आज के इस वैज्ञानिक युग में भी संस्कृत का भाषा विज्ञान कम्प्यूटर के लिए सर्वोत्तम पाया गया है।

4 टिप्पणियाँ:

'उदय' said...

...प्रभावशाली अभिव्यक्ति !!!

jay said...

सौरभ जी हिन्दी के प्रखर वक्ता के रूप में जाने जाते हैं. कई बार इनके भाषणों से प्रेरित/पीड़ित होने का अवसर मिला है. वास्तव में इस आलेख के माध्यम से हिन्दी को लेकर इनका सकारात्मक चिंतन लोगों में आत्मविश्वास का संचार करेगा. बिलकुल हिन्दी को कोई खतरा नहीं है. बस हम सब भारतीय अपने स्‍वाभिमान का पर्याय इसका मानते रहें इतनी ही अपेक्षा. धन्यवाद.
पंकज झा.

rajkumar said...

AALEKH ATI UTTAM. HINDI ME KAAM KARNE KI AADAT DALWAAYEN

pankaj pandit said...

I am agree with you and tried always to express myself in Hindi as in your near by blog at www.ayurvedicchikitsa.blogspot.com Science /Electronics/maths can be read/write/Understand in Hindi more rapidly.In fact we have to tell strictly that they can digested naturally in Hindi.

भारत की राष्‍ट्रीयता हिंदुत्‍व है